मन की बात…

रोज दो आँखों और दो कानों से जो कुछ दिल के समुन्दर तक जाता है, उनमें से जो सतह पर ही रह जाता है वो तो ज़ुबाँ से बाहर आ जाता है लेकिन जो समुन्दर की तलहटी में चला जाता है अक्सर वो ज़ुबाँ से बाहर नहीं आता और कलम से अक्सर बाहर आ जाता है…। जिस तरह से कोई कलश समर्थ नहीं होता कि वो समुन्दर को नाप सके, उसी तरह से ये शब्द भी समर्थ नहीं हैं कि वो पूरी तरह से दिल की भावनाओं को व्यक्त कर सकें; और समर्थ हो भी क्यों…? जिस दिन ये समर्थ हो गये क्या उस दिन कलम रुक नहीं जाएगी और कलम का रुक जाना क्या मेरे लिए धड़कन का रुक जाना नहीं होगा…?
खैर जब तक धड़कन चल रही है, मेरी कलम भी यहाँ पर चलती रहेगी…।

स्वप्नेश चौहान

3 responses to this post.

  1. sehmat hu aapke vichaaro se……jo vyakti gehraaiyo mein jaane ki ichhaa na rakhtaa ho use gehraaiyo mein khiich le jana murkhtaa hogi……..aur jo gehraaiyon mein doobna chaahta hai wah satah ko dekh kar samudra ki gehraai ko aank sakta hai.parantu wah bhi us gehraai ko shabdo mein nahi vyakt kar paaega……..wo gehraai uski gehraaiyon mein kaid ho jaegi…..

    प्रतिक्रिया

  2. खूबसूरत शुरुआत हुई है. शुभकामना!

    प्रतिक्रिया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

अनमोल रत्न

एक अमूल्य संकलन

अपनी बात

भावनाओं के संप्रेषण का माध्यम।

नजरिया

बात जो है खास ....

Civil Services Exam Help

A brief and to the point view and materials on BPSC , JPSC and UPSC Exams

जिसके आगे राह नहीं...

तमन्‍ना

जिसके आगे राह नहीं...

कस्‍बा qasba

जिसके आगे राह नहीं...

आखिरी पथ...

जिसके आगे राह नहीं...

जिसके आगे राह नहीं...

संवेदना

कोशिश मशीनी पड़ रहे मस्तिष्क में भावना-प्रवाह की'

जिसके आगे राह नहीं...

चक्रधर की चकल्लस

जिसके आगे राह नहीं...

Satasangi Lane, Deo 824202

जिसके आगे राह नहीं...

तीसरा रास्ता

जिसके आगे राह नहीं...

Swapnesh Chauhan

जिसके आगे राह नहीं...

अनोखा

साफ कहना, सुखी रहना

यह भी खूब रही

यह भी खूब रही। (Yah bhi khoob rahi)

%d bloggers like this: